Best quotes of vivekananda in hindi || स्वामी विवेकानंद जी के अनमोल विचार

Share it with others
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

स्वामी विवेकानंद जी के बारे में कौन नहीं जानता है। वे युवाओ के प्रेरणा स्त्रोत है। स्वामी विवेकानंद एक आध्यात्मिक गुरु तथा समाज सुधारक थे। वे समाज में फैली विसंगतियों को दूर करना चाहते थे। स्वामी विवेकानद जी मानते थे की सभी धर्मो से ऊपर राष्ट्र धर्म होता है। हमें हमेशा अपने देश और संस्कृति पर गर्व करना चाहिए। स्वामी विवेकानन्द जी ने ही विश्व राष्ट्र धर्म सम्मलेन में भारत का नेतृत्व किया और हमारे इस भारत देश को विश्व गुरु बनाया। लेकिन आज के समय में हम जिस पाश्चात्य की ओर बढ़ रहे है। उसके लिए यह बहुत जरुरी है क़ि युवाओ और बच्चो को उनके बारे में तथा उनकी द्वारा लिखी किताबो को अवश्य पढ़ना चाहिए। जिससे उनके जीवन को एक दिशा और दशा दोनों मिल सके और अपने देश और लोगो के लिए कुछ कर सके। क्या थे स्वामी विवेकानंद के अनमोल विचार (Best Quotes of Swami Vivekananda) आइए जानते है।

Best quotes of vivekananda in hindi

1. यह कभी मत कहो कि ‘मैं नहीं कर सकता’, क्योंकि आप अनंत हैं। आप कुछ भी कर सकते हैं। – स्वामी विवेकानंद

2. उठो, जागो और लक्ष्य पूरा होने तक मत रुको। – स्वामी विवेकानंद

3. एक रास्ता खोजो। उस पर विचार करो। उस विचार को अपना जीवन बना लो। उसके बारे में सोचो। उसका सपना देखो, उस विचार पर जियो। मस्तिष्क, मांसपेशियों, नसों, आपके शरीर के प्रत्येक भाग को उस विचार से भर दो। और किसी अन्य विचार को जगह मत दो। सफलता का यही रास्ता है। – स्वामी विवेकानंद

4. आप जोखिम लेने से भयभीत न हो, यदि आप जीतते हैं, तो आप नेतृत्व करते है, और यदि हारते है , तो आप दुसरो का मार्दर्शन कर सकते हैं। – स्वामी विवेकानंद

5. जो किस्मत पर भरोसा करते हैं वो कायर हैं, जो अपनी किस्मत खुद बनाते हैं वो मज़बूत हैं। – स्वामी विवेकानंद

6. अनुभव ही आपका सर्वोत्तम शिक्षक है। जब तक जीवन है सीखते रहो। – स्वामी विवेकानंद

7. जब कोई विचार विशेष रूप से हमारे मन पर कब्जा कर लेता है, तो यह वास्तविक, भौतिक या मानसिक स्थिति में बदल जाता है। – स्वामी विवेकानंद

8. यदि आप मुझको पसंद करते हो तो, मैं आपके दिल में हूँ। यदि आप मुझसे नफरत करते हो , तो मैं आपके मन में हूँ। – स्वामी विवेकानंद

9. दिन में कम से कम एक घंटा खुद से जरूर बात करें अन्यथा आप एक उत्कृष्ट व्यक्ति के साथ एक बैठक गँवा देंगे। – स्वामी विवेकानंद (it’s my inspiration)

10. जो व्यक्ति गरीबों और असहाय के लिए रोता है, वही महान आत्मा है, अन्यथा वो दुरात्मा है। – स्वामी विवेकानंद

11. जो तुम सोचते हो वो हो जाओगे. यदि तुम खुद को कमजोर सोचते हो, तुम कमजोर हो जाओगे; अगर खुद को ताकतवर सोचते हो, तुम ताकतवर हो जाओगे। – स्वामी विवेकानंद

12. श्री रामकृष्ण कहा करते थे,” जब तक मैं जीवित हूँ, तब तक मैं सीखता हूँ ”. वह व्यक्ति या वह समाज जिसके पास सीखने को कुछ नहीं है वह पहले से ही मौत के जबड़े में है। – स्वामी विवेकानंद

13. एक समय में एक काम करो, और ऐसा करते समय अपनी पूरी आत्मा उसमें डाल दो और बाकी सब कुछ भूल जाओ। – स्वामी विवेकानंद

14. दिल और दिमाग के टकराव में दिल की सुनो । – स्वामी विवेकानंद

15. बस वही जीते हैं,जो दूसरों के लिए जीते हैं.

Swami Vivekananda Quotes 

स्वामी विवेकानंद जी पूरी जीवनी पढ़ने के लिए यहाँ click करे-

Biography of vivekananda in hindi || स्वामी विवेकानंद जी का जीवन परिचय

16. जब कोई विचार अनन्य रूप से मस्तिष्क पर अधिकार कर लेता है तब वह वास्तविक भौतिक या मानसिक अवस्था में परिवर्तित हो जाता है। – स्वामी विवेकानंद

17. मस्तिष्क की शक्तियां सूर्य की किरणों के समान हैं. जब वो केन्द्रित होती हैं, चमक उठती हैं। – स्वामी विवेकानंद

18. शक्ति जीवन है, निर्बलता मृत्यु है. विस्तार जीवन है, संकुचन मृत्यु है. प्रेम जीवन है, द्वेष मृत्यु है। – स्वामी विवेकानंद

19. उस व्यक्ति ने अमरत्व प्राप्त कर लिया है, जो किसी सांसारिक वस्तु से व्याकुल नहीं होता। – स्वामी विवेकानंद

20. कभी नहीं सोचना कि आत्मा के लिए कुछ भी असंभव है। ऐसा वाला सबसे बड़ा पाखंडी है। यदि पाप है, तो यह एकमात्र पाप है कि आप कमज़ोर हैं, या अन्य कमज़ोर हैं। – स्वामी विवेकानंद

21. जब आप व्यस्त होते हैं तो सबकुछ आसान होता है। लेकिन जब आप आलसी हैं तो कुछ भी आसान नहीं है। – स्वामी विवेकानंद


22. जब मैंने ईश्वर से ताकत मांगी तो उसने मुझे मुश्किल परिस्थितियों से सामना कराया। – स्वामी विवेकानंद

23. जब मैंने ईश्वर से मस्तिष्क और पुष्ट शरीर माँगा,तो उसने मुझे जीवन में बहुत पहेलियाँ हल करने के लिए प्रेरित किया। – स्वामी विवेकानंद

24. जब मैंने ईश्वर से खुशी मांगी, तो उसने मुझे कुछ दुखी लोगों को दिखाया। – स्वामी विवेकानंद

25. जब मैंने ईश्वर से धन माँगा, तो उसने मुझे दिखाया कठोर परिश्रम कैसे करें। – स्वामी विवेकानंद

26. जब मैंने ईश्वर से कुछ साथ माँगा, तो उसने मुझे काम करने के अवसरों को दिखाया । – स्वामी विवेकानंद

27. जब मैंने ईश्वर से शांति मांगी तो उसने मुझे दिखाया कि कैसे दूसरों की मदद करे। – स्वामी विवेकानंद

28. भगवान ने मुझे जो चाहिए था, कुछ भी नहीं दिया लेकिन उसने मुझे वह सब कुछ दिया जिसकी मुझे जरुरत हैं। – स्वामी विवेकानंद

29. शुद्धता, धैर्य और दृढ़ता सफलता के लिए तीनो आवश्यक हैं। – स्वामी विवेकानंद

30. स्वयं में बहुत सी कमियों के बावजूद अगर मैं स्वयं से प्रेम कर सकता हूँ तो फिर दूसरों में थोड़ी बहुत कमियों की वजह से उनसे घृणा कैसे कर सकता हूँ । – स्वामी विवेकानंद

31. संभव की सीमा जानने का केवल एक ही तरीका है असंभव से भी आगे निकल जाना। – स्वामी विवेकानंद 

32. एक बार किसी ने स्वामी विवेकानंद जी से पूछा कि:- ‘सब कुछ खोने से ज्यादा बुरा क्या है?’ स्वामी जी ने जवाब दिया:- ‘उस उम्मीद का खो देना जिसके भरोसे हम सब कुछ वापस पा सकते है’। – स्वामी विवेकानंद

33. किसी लक्ष्य के लिए खड़े हो तो एक पेड़ की तरह, गिरो तो एक बीज की तरह, ताकि दुबारा उगकर उसी लक्ष्य के लिए फिर से संघर्ष कर सको। – स्वामी विवेकानंद

34. कोई और तुम्हारी मदद नहीं कर सकता, अपनी मदद स्वयं कर सकते हैं. आप ही खुद के सबसे अच्छे मित्र हैं और सबसे बड़े दुश्मन भी हैं। – स्वामी विवेकानंद

35. अपनी अंतरात्मा और ईश्वर को छोड़कर किसी के आगे मस्तक ना झुकाओ| ईश्वर तुम्हारे अंदर ही विद्धमान है, इसका अनुभव करो.

दोस्तों अगर यह लेख स्वामी विवेकानंद के अनमोल विचार (Best Quotes of Swami Vivekananda) आपको पसंद आया तो आप comment  करके हमें बता सकते है। आप इसे दूसरे लोगो को भी शेयर करके उन्हें जीवन में आगे बढ़ने के लिए प्रेरित कर सकते है।

 


Share it with others
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *