Hamesha Khud ko motivate kaise rakhe ||

Share it with others
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Hamesha Khud ko Motivate kaise rakhe || खुद को मोटिवेटेड कैसे रखे ?

इस भाग दौड़ से भरे युग में, जहाँ हर व्यक्ति अपनी जिम्मेदारियों का वहन करने में लीन हैं, ऐसे समय में एक व्यक्ति का परिश्रम ही उसकी असल संपत्ति रह जाती हैं। इस विश्व में सब कुछ अस्थिर है ऐसे में अगर महत्ता किसी वस्तु या भाव की रह जाती है तो वो है अपने कार्य में संतुष्टि, लगन और सहनशीलता से किया गया परिश्रम। हर सुख और दुःख हमारा साथ छोड़ देती हैं, पर ये हमारी स्वयं की कर्तव्यनिष्ठता ही है जो हमारी सच्ची साथी हैं। हमारी अपने कार्यो के प्रति लगन, अपनी सोच में पवित्रता, अपने लक्ष्य में दृढ़ता और अटलता और साथ में परिश्रम और खुद को मोटिवेटेड रखने की वो चाभी जो मनुष्य के लिए उसकी मंज़िलो के बुलंद दरवाजे खोल देती हैं,  ये गुण जिस मानव में हो उसकी सफलता निश्चित रूप से तय है। परंतु आज जीवन में जितने अधिक अवसर हैं उससे कहीं ज्यादा अधिक बाधाये और हमें अपनी राह से भ्रमित करने के साधन हैं। ऐसे में ख़ुद को मोटिवेटेड रखना और अपने लक्ष्य के प्रति अटल रहना अत्यंत कठिन मालूम होता हैं। Hamesha Khud ko Motivate kaise rakhe हमेशा खुद को मोटिवेट कैसे रखे .

अनेक विधार्थियों तथा कंपेटिटिव परीक्षाओं की तैयारी करने वाले युवाओ को पढाई में समय असमय अरुचि होती है। इसी समस्या से निपटने के लिए आज हम हमेशा खुद को मोटिवेट कैसे रखे Hamesha Khud ko Motivate kaise rakhe और अपने कार्य में अपना मन लगाए रखने के लिए कुछ तरीके जानेंगे:-

1. अपने लिए एक टू- डू(to-do) लिस्ट तैयार करें:-

अपने आप को मोटिवेटेड रखने और निरंतर कार्य में रुचि रखने के लिए सबसे ज़रूरी है हमेशा आगे की सोचना और अपने दिनचर्या का निर्धारण पहले ही कर लेना। इससे सहायता यह होगी की आप अपनी क्षमता के अनुकूल कार्य कर पाएंगे और इससे आपको अपने कार्य में अरुचि नहीं होगी।

उदाहरण:- निर्धारित करें कि आज आप इंग्लिश के 2 पाठ तथा गणित का 1 पाठ पढ़ेंगे। इसके अतिरिक्त भौतिकी के पूर्व अध्यायित पाठो का रिविजन करेंगे। इस प्रकार के पूर्व निर्धारण से आपको सहजता से अध्ययन में सहायता होंगे और समय की बचत भी होगी। और अतिरिक्त समय में आप अन्य किसी विषय की तैयारी कर सकते हैं।

2. कम से शुरुआत करें:-

एक ही बार में अधिक कार्य लेकर उसे एक ही समय पर पूरा करना संभव नहीं होता। इससे ना केवल मन विचलित हो जाता है बल्कि कार्य पूरा ना होने से असंतुष्टि और अरुचि भी उत्पन्न हो जाती है। इसलिए कार्य छोटे से शुरू करें। उतना ही कार्य करने का निश्चय करें जितना एक दिन में सहजता से हो सके।  और जब आप तैयार हो तब अपने कार्य की सीमा को बढ़ाये और अधिक कार्य करने का प्रयास करें।

3. नियत रूप से विराम लें:-

अपने लक्ष्य की ओर अग्रसर होने के साथ साथ आवश्यक है की आप अपने शरीर को आराम प्रदान करें जिससे उसमे आगे के कार्यों को करने की इच्छा जीवित रहे। हर 1 घंटे कार्य करने के पश्चात 10 मिनट का आराम सहज रूप से व्यक्ति को नयी ऊर्जा देता है। इससे आपकी मानसिक स्थिति संतुलित बनी रहेगी।

4. अनुभवी लोगों से बातचीत करें:-

अनुभव ही ऐसा एकमात्र धन है जो परिश्रम नही कमा सकती। आप जिस भी लक्ष्य को पाने की कल्पना करते हैं, ऐसे व्यक्ति जो उन्हे पा चुके हैं या पाने का प्रयास कर रहे है उनसे वार्तालाप करना अवश्य ही लाभदायक होगा। इससे आपको अपने लक्ष्य की तरफ एक नया नज़रिया मिलेगा जो की अनेक रूपों में आपकी सहायता करेगा। यदि आप ऐसे किसी व्यक्ति से बात नही कर सकते तो उनके बारे मे पढ़ सकते हैं।

5. पौष्टिक आहार तथा व्यायाम:-

पौष्टिक आहार लेना ही एक स्वस्थ शरीर और स्वस्थ मस्तिस्क का रहस्य है। इससे आपका हृदय शांत रहेगा। व्यायाम करना मन का वश में रखने तथा उसे भ्रमित होने से रोकने के लिए अत्यंत उपयोगी साबित हो सकता हैं। लंबे समय तक कार्य करते रहने के लिए यह आवश्यक है। साथ ही प्रतिदिन एक ही समय पर भोजन लेना चाहिए। इससे आपके कार्य करने के समय में बाधाएँ नहीं आयेंगी और आप सहज रूप से अपने कार्य पर ध्यान दे पाएंगे।

6. नियत पूरी नींद लें:-

पूरी नींद लेना अति आवशयक है। अपने आप को स्वस्थ रखने तथा अपने शरीर की घड़ी को सही तरीके से काम करवाने के लिए यह बहुत जरूरी हैं। निर्धारित करे की आप रात में अधिक कार्य कर पाते है या दिन में। इसके अनुकूल ही अपने सोने तथा उठने के समय का निर्धारण करें। इससे मन प्रसन्न और व्याकुलता से दूर रहेगा।

7. व्याकुलता/विकर्षण से बचें:-

मनुष्य का मन छोटे बच्चे की भाँति चंचल होता है। इसे आसानी से भटकाया जा सकता है। इसे भटकने से रोकने के लिए दृढ़ संकल्पित होने की आवश्यकता हैं। अपने लक्ष्य पे अडिग रूप से टिके रहना और संकल्पित होकर अपनी राह से पीछे मुड़कर ना देखना ही हमें सफलता के शिखर तक पहुँचा सकता है। और अगर निरंतर संघर्ष किया जाए और अपने लक्ष्य की ओर स्वयं को समर्पित कर दिया जाए तो कुछ भी असंभव नही रह जाता और दुर्गम से दुर्गम मुकामो तक पहुँचा जा सकता है।

8. . समय की कद्र करें:-

समय एक अमूल्य धन हैं। यह एक बार हाथ से निकला तो दुबारा मिलना असंभव है। और ऐसा व्यक्ति जिसके पास समय पहले से ही कम हो उसके लिए इसकी कीमत और भी बढ़ जाती है। समय को व्यर्थ ना जाने दे उसकी कद्र करें और यह सोचे की हर वो क्षण जो आप व्यर्थ करेंगे वो आपको अपने लक्ष्य से एक कदम दूर लेकर जायेगा। समय को अपना गुरु माने और उसका सम्मान करें। समय आपको निराश नही करेगी।

इसे भी पढ़े – समय की बचत कैसे करे ?

9. अपनी सराहना करें और अपनी मेहनत की कद्र करें:-

अकांक्षाएँ बहुतों की होती है परंतु उन्हे पाने के लिए अथक प्रयास करने और निरंतर परिश्रम करने का साहस केवल कुछ ही कर पाते हैं। अगर आप पूरी निष्ठा से अपने लक्ष्य को चाहते है तो आधी जंग आप पहले ही जीत चुके है पर पूरी जंग जीतने के लिए आपको हर वह प्रयास करना होगा जिसकी वह लक्ष्य माँग करता है। और यदि आप प्रयास करने के मध्य में हैं तो प्रयास करते रहिये आप सफल जरूर होंगे। विश्वास ही मनुष्य को पराक्रमी बनाता है।

10. प्रेरणा (Motivation) की तलाश अपने अंतरमन में करें:-

बाहर की दुनिया में प्रेरणा के असीमित साधन हैं परंतु यदि प्रेरणा स्वयं के हृदय में ना मिले तो वह असीमित साधन भी व्यर्थ है। अंत में ये सफर आपका हैं और आपको रास्ता भले ही दूसरे दिखाये पर इसपर चलना स्वयं आपको है। जब तक आप कर्मठ नही होंगे और अपने कर्तव्य का निर्वहन नही करेंगे सफलता तक पहुँचने का रास्ता कठिन ही प्रतीत होगा। यह सब अंत मे केवल मन का ही खेल बन जाता हैं। जिसका मन पे जितना अधिक नियंत्रण और स्वयं पे जितना अधिक विश्वास, प्रेरणा की कमी उसे कभी महसूस नही होगी और लक्ष्य की प्राप्ति उसे उतनी ही जल्दी होगी।

“मंज़िल उन्ही को मिलती है जिनके सपनों में जान होती है,

पंखो से कुछ नही होता होसलों से उड़ान होती है।“

अंततः हम हृदय से कामना करते हैं कि आप अपने प्रयासो में सफल हो और आप सफलताओ के शिखर तक पहुँचे। हार मानना हमेशा सबसे आसान काम होता है परन्तु हारने के बाद भी जो इंसान फिर उठ कर खड़ा होता है वही इंसान इतिहास रचता है। ये आप पर निर्भर है की आप इतिहास पढ़ना चाहते हो या इतिहास रचना चाहते हो। पर हम पूरे विश्वास से मानते हैं की आप आसान नही सही रास्ता चुनेंगे। आपकी सफलता की कामना करते हैं।

साथियो, आपको खुद को मोटीवेट कैसे रखे hamesha khud ko motivate kaise rakhe यह जानकारी पढ़कर कैसा लगा comments करके हमें जरूर बताये। अगर आपको किसी विशेष कोर्स या डिप्लोमा के बारे में जानकारी चाहिए comments करके बता सकते है। जिस भी topic पर ज्यादा comments होंगे। उस विषय हमारी टीम आर्टिकल पोस्ट करेगी।


Share it with others
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *